Ticker

6/recent/ticker-posts

गौरव हत्याकांड का सनसनीखेज खुलासा, प्रेम प्रसंग के चलते दोस्त ने ही किया था कत्ल, दोस्ती पर उठने लगे सवाल

गौरव हत्याकांड का सनसनीखेज खुलासा, प्रेम प्रसंग के चलते दोस्त ने ही किया था कत्ल, दोस्ती पर उठने लगे सवाल

गौरव ने जान गवांकर चुकाई अपनी दोस्ती की कीमत

रिपोर्ट-एसडी गौतम

सहारनपुर. जहां दोस्त एक दूसरे दोस्त की खातिर अपनी जान दांव पर लगा देता है और जिस दोस्ती की मिशाल दुनियाभर में दी जाती रही है तो वही दुश्मन ना करे दोस्त ने वो काम किया है.. ये लाइन थाना नागल के क्षेत्र ताजपुर रोड पर हुए बुधवार की रात्रि को हुए जघन्य हत्याकांड पर सटीक बैठती है जिसने सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया है। घटना का सनसनीखेज खुलासा करते हुए पुलिस ने तीन अभियुक्तों को जेल भेज दिया है। 

 जारी प्रेस नोट व पुलिस लाइन आयोजित प्रेसवार्ता में एसपी देहात सागर जैन से मिली जानकारी के अनुसार पिंकी पुत्र सोमसिंह निवासी ग्राम ताजपुर थाना नागल ने थाने नागल में अपने पुत्र की हत्या में पड़ोसी गांव फतेहपुर निवासी ओमसिंह, ललित, पिंटू, सचिन, विनिश व मोनी के खिलाफ वादी के पुत्र गौरव की गला रेतकर हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था। जिसका तत्काल संज्ञान लेते हुए एसएसपी विपिन टाडा द्वारा घटना के शीघ्र खुलासे हेतु अधिनस्थों को निर्देश दिए गए थे, जिसपर एसपी देहात सागर जैन व क्षेत्राधिकारी देवबंद अशोक सिसोदिया के पर्यवेक्षण तथा थाना निरीक्षक ज्ञानेश्वर बौद्ध के नेतृत्व में मुखबिर की सूचना पर तत्वरित कार्यवाही करते हुए प्रकाश में आए तीन अभियुक्त मयंक सैनी पुत्र मुकेश सैनी उर्फ सतीश निवासी गुरुद्वारा रोड नागल, बिट्टू पुत्र रणजीत बबलू निवासी खजूरवाला तथा भाटखेड़ी निवासी बॉबी पुत्र मांगेराम को मीरपुर रेलवे पुल से गिरफ्तार कर लिया जिनके कब्जे से हत्या में प्रयुक्त एक चाकू व एक स्प्लेंडर बाइक संख्या UP/11J/2663 बरामद हुई है। पूछताछ करने पर हत्यारोपी मयंक सैनी ने बताया कि मै और गौरव तथा फतेहपुर निवासी एक लड़की तन्नू समेत हम तीनो ने 2022 में इंटर की परीक्षा पास की थी और वर्तमान में मैं और वह लड़की आईआईएमटी कोटा में बीए तथा गौरव पॉलीटेक्निक कर रहा था। कुछ दिन पहले गौरव और तन्नू का रिश्ता तय हो गया था लेकिन किसी कारणवश दीपावली के लगभग उनका रिश्ता टूट गया था और बोलचाल भी बंद हो गई थी। मै भी उस लड़की (तन्नू) से प्रेम करता था। बीते करीब 15 दिन से तन्नू और गौरव फिर संपर्क में आ गए जो उससे बर्दाश्त नहीं हुआ। जिस कारण गौरव से बदला लेने के लिए उसने यह बात अपने साथी बिट्टू को बताकर गौरव से बदला लेने की योजना बनाई। योजनानुसार रात्रि 9 बजे गौरव के साथ गुरुद्वारा रोड से उसकी बाइक पर बैठकर उसके गांव की ओर चल दिया और मेरा साथी बिट्टू अपने साथी बॉबी के साथ पीछे पीछे अपनी बाइक से आते रहे। ताजपुर रोड पर मैने पीछे बाईक पर बैठे बैठे गौरव के पेट में चाकू घोंप दिया तभी मोटरसाइकिल फिसलकर गिर गई और गौरव भागने लगा तो हम तीनो ने गौरव को पकड़कर उसका गला रेतकर हत्या कर दी। हैरत करने वाली बात है कि हत्यारोपी मयंक घटनाक्रम के बाद कॉल पर किसी से लगातार संपर्क में बना रहा और मृतक के परिजनो के साथ अस्पताल व थाने आदि में हमदर्दी का दिखावा भी करता रहा जिससे कि किसी को भी उसके ऊपर कोई शक न हो। बताया जाता है कि अभियुक्त बिट्टू द्वारा बॉबी को मोमोज खाने का लालच जीवनभर के लिए भारी महंगा पड़ गया है जिसे बोबी को आजीवन चुकाना पड़ेगा। क्षेत्र में हुई घटना ने सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया है। जिससे लोग "दोस्त दोस्त न रहा जिंदगी मुझे तेरा एतबार न रहा" इन लाइनों को सुनते हुए दोस्त शब्द से नफरत सी करने लगे है। खैर सभी दोस्त मयंक जैसे गद्दार नहीं होते क्योंकि कृष्ण और सुदामा जैसे कुछ दोस्त अपनी दोस्ती की खातिर कुछ भी कर गुजरते है लेकिन गौरव ने तन्नू और मयंक से दोस्ती की कीमत अपनी जान देकर चुकाई है। वैसे अगर हत्याकांड में कॉल डिटेल आदि खंगाली जाए तो इस जघन्य कृत्य के कई चौंकाने वाले रहस्य से पर्दा उठ सकता है। हत्याकांड का खुलासा करने पर क्षेत्रवासियों ने पुलिस की भूरी भूरी प्रशंसा की है। गिरफ्तार करने वाली टीम में थाना निरीक्षक ज्ञानेश्वर बौद्ध, निरीक्षक सतपाल भाटी, एसएसआई ओमेंद्र मलिक, एसआई महेश चंद, एसआई सचिन त्यागी, एसआई असगर अली व कांस्टेबल सन्नी कुमार साथ रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ग्लोकल विश्वविद्यालय में विश्व साइकिल दिवस के अवसर पर जागरुकता रैली का आयोजन