Ticker

6/recent/ticker-posts

पंचायती राज विभाग में कार्यरत सफाई कर्मचारियों ने मांगों का को लेकर दिया धरना

पंचायती राज विभाग में कार्यरत सफाई कर्मचारियों ने मांगों का को लेकर दिया धरना

रिपोर्ट-अमान उल्ला खान

सहारनपुर- पंचायती राज विभाग में कार्यरत सफाई कर्मचारियों ने मांगों का निराकरण एवं ऑनलाईन उपस्थिति से मुक्त रखे जाने के सम्बन्ध में हकीकत नगर धरना स्थल पर धरना देते हुए एक आठ सूत्रीय ज्ञापन मुख्यमंत्री के नाम जिला प्रशासन को सोपा

धरने को संबोधित करते हुए जिला अध्यक्ष सुलेख चंद ने कहा कि उ०प्र० पंचायती राज ग्रामीण सफाई कर्मचारी संघ के 01 लाख 8 हजार सफाई कर्मचारियों को ऑनलाईन हाजरी से मुक्त रखे जाने ऑनलाईन हाजरी में आने वाली समस्याओं ती है।जैसे सफाई कर्मचारी से बी०एल०ओ० का कार्य लिया जाता है जिसका निर्धारित समय व स्थान नही है। सफाई कर्मचारी से बी०एल०ओ० का कार्य लिया जाता है जिसका निर्धारित समय व स्थान नही है। सफाई कर्मचारी को विभिन्न कार्यालयों,आवासों एवं विभिन्न कार्य हेतु विभिन्न स्थानों पर सम्बद्ध करके कार्य लिया जा रहा है, ऐसे कर्मचारियों की आनलाइन उपस्थिति सम्भव नही है। प्रदेश सरकार भारत सरकार प्रशासन शासन के कार्यक्रमों से पूर्व सफाईकर्मचारियों को सामुहिक रूप से कई दिनों तक लगाया जाता है जो कि नियुक्ति ग्रामों से अलग होते है। संचारी रोग, दस्तक रोग, महामारी नियंत्रण कार्यक्रम में टोली बनाकर एक साथ कई स्थानों पर नियुक्ति ग्रामों से काफी दूर लगाया जाता है।पंचायती राज विभाग के साथ-साथ अन्य विभाग के कार्यों को भी अलग- अलग स्थानों पर कराये जाते है। ग्रामीण सफाई कर्मचारियों से मेलों में डयूटी, बाढ प्रभावित क्षेत्रों में डयूटी, निर्वाचन कार्य में महीने ड्यूटी, वी0आई0पी0 दोरों के समय विभिन्न प्रकार के कार्यों के साथ निर्धारित स्थान से आवारा पशुओं (सांड) आदि की पकड़ कर गौर आश्रम में पहुंचाना जिसमें कर्मचारियों की जान का भी जोखिम होता है। प्रदेश में लगभग 20 प्रतिशत कर्मचारियों से अपने नियुक्ति ग्रामों से इतर अन्य स्थानों कार्यालयों में उपयोगिता अनुसार कार्य करवाया जाता है जिनकी आनलाईन उपस्थिति संभव नही है। सफाई कर्मचारियों की योग्यता साक्षर हैं इसलिये आनलाईन उपस्थिति संभव नही है। इससे कर्मचारियों का आर्थिक, मानसिक शोषण होने की संभावना है। इसलिए सफाई कर्मचारियों को आनलाईन उपस्थिति से मुक्त रखा जाए जिससे कर्मचारी अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करने में समय ना नष्ट करके अपने सफाई कार्य को पूर्ण करें। संघ बार-बार पत्राचार करके आनलाईन उपस्थिति में सफाई कर्मचारियों को ऑनलाईन समस्याओं से अवगत कराया गया है। किन्तु अभी तक किसी समस्या का समाधान नही किया गया है। माह मार्च 2024 से आनलाईन अनिवार्य किये जाने की कार्यवाही की जा रही है जिससे सफाई कर्मचारियों में भारी रोष व्याप्त है। सफाई कर्मचारियों की मांगो एवं आनलाईन उपस्थिति से मुक्त रखे जाये। साक्षर एवं अल्प वेतन भोगी सफाई कर्मचारियों की विभिन्न समस्याओं को ध्यान में रखते हुए सफाई कर्मचारियों को आनलाइन उपस्थिति से मुक्त रखा जाये तथा ग्राम पंचायतवार नायक, ब्लॉकवार- निरीक्षक, जिला वार-पर्यवेक्षक के प्रस्ताव (जिस पर सहमति बनी थी) पर कार्यवाही करते हुए पदोन्नति करने की कृपा करें, जिससे सुचारू रूप से सफाई कर्मचारियों की उपस्थिति व कार्य प्रमाणित हो सके। संघ का आपसे अनुरोध है कि सकारात्मक कार्यवाही करने की कृपा करें। धरने में मुख्य रूप से शराफत अंसारी ,टीपू सुल्तान ,जोगेंद्र सिंह, प्रमोद कुमार, जितेंद्र कुमार ,राजकुमार, पवन कुमार ,रामपाल, ईश्वर पाल कश्यप, मुकेश कुमार आदि आदि मौजूद रहे




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

किसानों  के बीच धरना स्थल पर पहुंचा सपा का प्रतिनिधिमंडल